Padhai me man nahi lagta kya kare ,

नमस्कार दोस्तों आज के हमारे इस पोस्ट का टॉपिक है मेरा पढ़ाई में मन नहीं नही लगता क्या करू ? ( Padhai me man nahi lagta kya kare ) यह सामान्य से बात है कि आपका पढ़ाई में रुचि नहीं है और ऐसा हर किसी के साथ होता है क्योंकि आमतौर पर देखा जाता है कि शुरुआती टाइम में किसी को भी पढ़ने में इतना मन नहीं लगता है दूसरी चीज करने में अधिक रुचि होती है तो चलो बने रहे हमारे साथ और हम आज जानेंगे कि अगर आपका पढ़ाई में मन नहीं लगता है आपकी रुचि नहीं है तो किस प्रकार से आप पढ़ाई में रुचि बढ़ा सकते हैं और पढ़ाई में अपना मन लगा सकते हैं जिसे मेहनत करके आप अपना भविष्य बना सकते हैं ।

जब हम छोटे होते हैं तो अक्षर देखते हैं कि खेलने कूदने में अधिक ध्यान रहता है जबकि पढ़ाई करना हमारे लिए सबसे कठिन होता है और हमें लगता है कि इसे दूर भाग जाए और आपने देखा होगा कि जो बचपन में चीज आपको याद करने में या पढ़ने में बहुत तकलीफ देती वह चीज आज आप आसानी से याद कर लेते हैं लेकिन उसके लिए पहले अपने बचपन में जैसे भी अपना मन न होने या होने पर भी वह चीज पड़ी और सीखने का कोशिश किया जिसे वह आपको आज भी याद है ।

तो दोस्तों पढ़ने के लिए सबसे बड़ी यही चीज होती है कि जब आपका मन नहीं होता है और जब आपका मन होता है यह दोनों चीज तब निर्भर करती हैं जब आपके सामने अलग से क्या है जैसे अगर मान जाए कि आपको केवल कोई लाइन याद करनी है या किसी विषय के बारे में सिर्फ अध्ययन करना है तो यह आपके लिए एक लक्ष्य हैं लेकिन आप इसको एक बटन या कठिन कार्य की तरह नहीं लेंगे क्योंकि आपको पता है कि आपसे कोई भी कुछ पूछने वाला नहीं है तो आप बिना डरे और बिना मन में कुछ सवाल करें आप इसको पढ़ेंगे ।

लेकिन वही बात करें तो अगर आपको ऐसा बोल दिया जाए कि इसमें से के बारे में आपको पढ़ना है उसके बाद आपका परीक्षा लिया जाएगा इसके बाद आपके मन में एक अलग ही तरह का विचार बैठ जाता है और आप उसे चीज को ज्यादा से ज्यादा रिटर्न ने की कोशिश करना या फिर आप उसको बिना रुचि के भी पढ़ने का कोशिश करते हैं और हमारी यही गलती हमको पढ़ाई की रुचि से दूर करने की पहली गलती होती है जिसकी वजह से हम धीरे-धीरे उसे चीज से दूर होने लग जाते हैं और फिर हम बोलते हैं कि हमारा पढ़ाई में मन नहीं लगता या फिर हम याद नहीं रहता ।

दोस्तों अगर आपका पढ़ाई करने में रुचि नहीं है या फिर आपको याद नहीं होता तो दोनों ही एक तरह से अलग विषय हैं जैसे आपका पढ़ाई में रुचि नहीं है तो यहां तो आपका उसे वैसे को लेकर क्लेरिटी नहीं है या फिर आपको पता नहीं है कि आखिर उसे विषय को किस तरह से पढ़ा जाए और दूसरा के अगर आपको याद नहीं रहता तो यह आपका मस्तिष्क पर निर्भर करता है कि आप उसको किस प्रकार की चीजे ज्यादा प्रयोग में देते हैं और अगर आप सामान्य तौर से याद करने में कमजोर है तो आप उसके लिए कुछ नुक्से अपना सकते हैं जिससे आप अपने दिमाग को तेज कर सकते हैं तो चलिए सबसे पहले जानते हैं कि अगर आपको याद नहीं रहता या जब आप पढ़ाई करते हैं तो आप भूल जाते हैं वह कुछ भी याद नहीं रहता तो यह नुक्से आप अपना सकते हैं धीरे-धीरे जरूर आपकी याददाश्त में सुधार हो जाएगा ।

दिमाग को तेज करने के लिए कुछ सामान्य से तरीके हैं जिन्हें अपना अगर आप अपने दिमाग को तेज कर सकते हैं जिसमें से सबसे पहले ।

Read More : Amazing Facts about Human Body

Dimag Tez karne ke upay

  • आपको रोजाना नियमित रूप से 30 मिनट तक योग जिसके अंदर आपको मेडिटेशन करना है अर्थात आपको अपने मन पर कंट्रोल करना है जब अपने मन को कंट्रोल करेंगे तो आप आएंगे कि आप जो चीज सोचा चाहेंगे या जो चीज याद करना चाहेंगे आपका दिमाग को ही कार्य करेगा ।
  • आपको जितना हो सके हेल्दी और फ्रूट्स और ग्रीन वेजिटेबल पर ज्यादा ध्यान देना है वजह आपको बाहर के खाने से क्योंकि जब हम बाहर का खाना खाते हैं तो वहां का टेस्ट और खाने के बावजूद हमारा शरीर आलसी हो जाता है जिस वजह से हमारा दिमाग भी एक आलस की तरह कार्य करता है इसलिए मैं कोशिश करनी है कि हमें हेल्दी फूड ट्राई करना है ।
  • आपको रोजाना कम से कम 7 से 8 घंटे नींद लेनी आवश्यक है अगर आप अपनी स्लीप साइकिल को सुधार सकते हैं तो आपकी आधे से ज्यादा समस्या खत्म हो जाएगी ।
  • जब हम किसी कार्य को अपनी रोजाना के दिनचर्या में जोड़ देते हैं तो हमारी आदत बन जाती हैं तो इसलिए आपको पढ़ाई को भी एक अपनी आदत के रूप में अपनाना है आपको धीरे-धीरे और कम से शुरू करना है और उसको बढ़ते रहना है जैसे पढ़ाई आपकी आदत बन जाए ।
  • कोशिश करें कि हमेशा सकारात्मक विचार वाले लोगों के साथ रहे और उन लोगों के साथ ही अपना समय बिताए क्योंकि ऐसे लोगों के साथ आप रहते हैं तो आपका दिमाग काफी खुश रहता है और उसकी कोई भी नेगेटिव थॉट नहीं आता है जिसकी वजह से उसकी जीवन में कुछ अच्छा करने की एनर्जी रहती है ।

यह तो कुछ तरीके इसके थ्रू आप इनको सुधार कर या आप अभी तक इनमें से किन चीजों में गलतियां कर रहे थे आप स्वयं अपना देख सकते हैं और उन्हें सुधार करके आप अपनी याददाश्त को दुरुस्त कर सकते हैं हम कुछ महंगी चीज यहां से कुछ खाने को आपको एडवाइस बिल्कुल नहीं करेंगे वह निर्भर करता है कि आपका बजट उन चीजों का लाभ करता है या नहीं वह आप इंटरनेट पर आसानी से ढूंढ सकते हैं तो चलिए

मेरा पढ़ाई में मन नहीं लगता क्या करूं | Padhai me man nahi lagta kya kare

आप जानते हैं कि अगर आपका पढ़ाई में मन नहीं लगता है कि आपकी रुचि नहीं है तो आप पढ़ाई के प्रति अपनी रुचि को कैसे ला सकते हैं सबसे पहले तो यह जान लिए की किताबें आपकी कोई दोस्त नहीं है जॉब पर पहले दिन मिलोगे और आप बोलोगे कि मुझसे दोस्ती कर ले तो ऐसा बिल्कुल नहीं है

आपको हमेशा उनका वक्त देना पड़ता है जिस तरह से आप अपनी गर्लफ्रेंड या अपने दोस्तों को समय देते हैं तभी आप उन्हें अच्छे से और सही तरह से जान सकते हैं ऐसे हमारे किताबें आप जितना ज्यादा समय देंगे अपने उतना अच्छा और बेहतर तरीके से जान पाएंगे लेकिन एक बात है दोस्तों सच्ची किताबें जो आपको कभी धोखा नहीं देगी हमेशा आपको कुछ ना कुछ अच्छा ही सीख कर जाएगी ।

जैसा कि हमने ऊपर बात की किसी भी चीज को अपनी आदत बनाने के लिए आपको उसको अपने रोजाना के दिनचर्या में अपना आना चाहिए तो वैसे ही आपको पढ़ाई को भी अपनी दिनचर्या में डालना चाहिए जिससे वह आपकी आदत बन जाए और साथ ही आप रोजाना पढ़ना शुरू कर दें

आप इतना समझ सकते हैं कि अगर आप रोजाना 20 मिनट भी पढ़ाई करते हैं तो आप एक सप्ताह में 140 मिनट पढ़ाई करेंगे जो की होते हैं 2 घंटे 20 मिनट और उसके अगले सप्ताह आप इस समय को प्रत्येक दिन 10 से 15 मिनट अपने अकॉर्डिंग बढ़ते जाएं और धीरे-धीरे आप देखेंगे की वह आपकी एक रोजमर्रा की आदत बन चुकी है और आपको रोजाना बिना पढ़े नींद भी नहीं आएगी शायद यह आपको पढ़ने में से बेड लगा सकता है लेकिन जब आप इस चीजों को असल में अपने जीवन में अपनाएंगे तो आप देखेंगे कि यश आपके जीवन में बदलाव आ रहा है ।

और पढ़ाई करने का सबसे बड़ा मूल मंत्री है कि आपको जितना भी पड़ है उसको बार-बार पढ़ना होगा आप इसको ऐसे समझ सकते हैं कि जब आप किसी रास्ते से पहली बार गुजरते हैं तो आपको रास्ता बहुत लंबा और अजीब लगता है लेकिन अगर आप उसे रास्ते से रोजाना और बार-बार गुजरते हैं तो आपको रास्ता बहुत छोटा और आपका जान पहचान जैसा रास्ता लगने लग जाता है

तो वही है कि आपको पढ़ाई के लिए हमेशा रिवीजन करना अनिवार्य है जवाब रिवीजन करते हैं तो आप अपने दिमाग को एक संकेत देते हैं कि आप पड़ी हुई चीजों को पढ़ रहे हैं और जब आपकी पड़ी हुई चीज पढ़ते हैं तब उसमें से आपको कुछ चीज याद रहती है पहले से तब दिमाग के लिए कुछ चीज आसान हो जाती है और दिमाग हैपिली उन चीजों को पड़ता है क्योंकि आपने देखा होगा कि जब आप किसी चीज को पहली बार पढ़ते हैं तो आपका दिमाग फोर्स लगाकर उन चीजों को पड़ता है क्योंकि दिमाग को पहले से उन चीजों के बारे में बिल्कुल नहीं पता होता है जब भी अगर पता हो जाता है जो दोबारा पड़ता है तो दिमाग उसको बहुत ही हेल्दी तौर से बिना फोर्स के पड़ता है तो उसे ज्यादा याद रहता है और वह जब बार-बार पढ़ते हैं तो आपको वह पूरा चैप्टर या पूरा विषय याद हो जाता है।

अंतिम शब्द

अंत उम्मीद करते हैं कि आपको इस पोस्ट से कुछ सीखने को जरूर मिला होगा यह पोस्ट पढ़ाई में मन नहीं लगने के लिए था और हमें आशा है कि आपको इस पोस्ट से कुछ बेहतर जानकारी जरूर मिली होगी जिसे आप अपना कर अपनी समस्या का समाधान जरूर करेंगे और आप इस पोस्ट को अपने उन दोस्तों के साथ जरूर शेयर कर सकते हैं जिन्हें पढ़ाई करने में कठिनाई आती है या उनको पढ़ाई में बिल्कुल रुचि नहीं है ताकि उन लोगों को भी सहायता हो सके और वह भी आसानी से पढ़ाई कर सकें हम उम्मीद करते हैं कि आप अपना रिव्यू मुझे कमेंट में जरूर देंगे और आपको किस तरह की चीज पढ़ना पसंद है आप हमें जरूर बताइए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *